शालिग्राम आरती | Shaligram Aarti

शालिग्राम सुनो विनती मेरी ।यह वरदान दयाकर पाऊं ॥ प्रात: समय उठी मंजन करके ।प्रेम सहित स्नान कराऊँ ॥ चन्दन धुप दीप तुलसीदल ।वरन -वरण के पुष्प चढ़ाऊँ ॥ तुम्हरे…

Continue Readingशालिग्राम आरती | Shaligram Aarti

सीता माता आरती | Sita Mata Aarti

आरति श्रीजनक-दुलारी की। सीताजी रघुबर-प्यारी की।। जगत-जननि जगकी विस्तारिणि, नित्य सत्य साकेत विहारिणि।परम दयामयि दीनोद्धारिणि, मैया भक्तन-हितकारी की।।आरति श्रीजनक-दुलारी की.. सतीशिरोमणि पति-हित-कारिणि, पति-सेवा-हित-वन-वन-चारिणि।पति-हित पति-वियोग-स्वीकारिणि, त्याग-धर्म-मूरति-धारी की।।आरति श्रीजनक-दुलारी की.. विमल-कीर्ति सब…

Continue Readingसीता माता आरती | Sita Mata Aarti

भैरव आरती | Bhairav Aarti

जय भैरव देवा प्रभु जय भैरव देवाा।जय काली और गौरा कृतसेवा ॥ तुम पापी उद्धारक दुख सिन्धु तारका।भक्तों के सुखकारक भीषण वपु धारक ॥जय भैरव देवा.. वाहन श्वान विराजत कर…

Continue Readingभैरव आरती | Bhairav Aarti

नवग्रह आरती | Navgrah Aarti

आरती श्री नवग्रहों की कीजै ।बाध, कष्ट, रोग, हर लीजै ॥ सूर्य तेज़ व्यापे जीवन भर ।जाकी कृपा कबहुत नहिं छीजै ॥ रुप चंद्र शीतलता लायें ।शांति स्नेह सरस रसु…

Continue Readingनवग्रह आरती | Navgrah Aarti

ब्राह्मणी माता आरती | Brahmani Mata Aarti

ब्राह्मणी माता आरती | Brahmani Mata Aarti ॐ ब्रह्माणी मइया, जय ब्रह्माणी मइया।पल्लू धाम विराजत, सब जन कल्याणी ॥ॐ ब्रह्माणी मइया .. मंगल मोदमयी माँ, पीताम्बर धारी।स्वर्ण छत्र से शोभित,…

Continue Readingब्राह्मणी माता आरती | Brahmani Mata Aarti

श्री कृष्ण आरती | Shree Krishan Aarti

आरती युगलकिशोर की कीजै।तन मन धन न्यौछावर कीजै॥गौरश्याम मुख निरखन लीजै,हरि का स्वरूप नयन भरि पीजै।आरती युगलकिशोर की कीज..रवि शशि कोटि बदन की शोभा,ताहि निरखि मेरो मन लोभा।ओढ़े नील पीत…

Continue Readingश्री कृष्ण आरती | Shree Krishan Aarti

कालभैरव आरती | Kalbhairav Aarti

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैंरव देवा।जय काली और गौरा देवी कृत सेवा।।जय भैरव देवा..तुम्हीं पाप उद्धारक दुख सिंधु तारक।भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक।।जय भैरव देवा..वाहन शवन विराजत…

Continue Readingकालभैरव आरती | Kalbhairav Aarti

कामाख्या देवी आरती | Kamakhya Devi Aarti

रती कामाख्या देवी की ।जगत् उधारक सुर सेवी की ॥आरती कामाख्या देवी की… गावत वेद पुरान कहानी ।योनिरुप तुम हो महारानी ॥सुर ब्रह्मादिक आदि बखानी ।लहे दरस सब सुख लेवी…

Continue Readingकामाख्या देवी आरती | Kamakhya Devi Aarti

विष्णु भगवान आरती | Vishnu Bhagwan Aarti

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे।भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥ जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का।सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ॐ जय… मात-पिता…

Continue Readingविष्णु भगवान आरती | Vishnu Bhagwan Aarti

वैष्णो देवी आरती | Vaishno Devi Aarti

जय वैष्णवी माता, मैया जय वैष्णवी माता।द्वार तुम्हारे जो भी आता, बिन माँगे सबकुछ पा जाता॥तू चाहे जो कुछ भी कर दे, तू चाहे तो जीवन दे दे।राजा रंग बने…

Continue Readingवैष्णो देवी आरती | Vaishno Devi Aarti

माँ सिद्धिदात्री आरती | Ma Siddhidatri Aarti

जय सिद्धिदात्री मां तू सिद्धि की दाता।तू भक्तों की रक्षक तू दासों की माता।तेरा नाम लेते ही मिलती है सिद्धि।तेरे नाम से मन की होती है शुद्धि।। कठिन काम सिद्ध…

Continue Readingमाँ सिद्धिदात्री आरती | Ma Siddhidatri Aarti

माँ चामुण्डा देवी आरती | Ma Chamunda Devi Aarti

जय चामुंडा माता मैया जय चामुंडा माता।शरण आए जो तेरे सब कुछ पा जाता।। चंड मुंड दो राक्षस हुए हैं बलशाली।उनको तूने मारा क्रोध द्रष्टि डाली।। चौंसठ योगिनी आकर तांडव…

Continue Readingमाँ चामुण्डा देवी आरती | Ma Chamunda Devi Aarti

माँ चंद्रघंटा आरती | Ma Chandraghanta Aarti

जय मां चंद्रघंटा सुख धाम। पूर्ण कीजो मेरे सभी काम।।चंद्र समान तुम शीतल दाती। चंद्र तेज किरणों में समाती।। क्रोध को शांत करने वाली। मीठे बोल सिखाने वाली।।मन की मालक…

Continue Readingमाँ चंद्रघंटा आरती | Ma Chandraghanta Aarti

माँ कूष्माण्ड आरती | Ma Kushmanda Aarti

कूष्मांडा जय जग सुखदानी।मुझ पर दया करो महारानी॥ पिगंला ज्वालामुखी निराली।शाकंबरी माँ भोली भाली॥ लाखों नाम निराले तेरे ।भक्त कई मतवाले तेरे॥ भीमा पर्वत पर है डेरा।स्वीकारो प्रणाम ये मेरा॥…

Continue Readingमाँ कूष्माण्ड आरती | Ma Kushmanda Aarti

ब्रह्माचारिणी देवी आरती | Brahmacharini Devi Aarti

जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता। जय चतुरानन प्रिय सुख दाता।।ब्रह्मा जी के मन भाती हो। ज्ञान सभी को सिखलाती हो।।जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता.. ब्रह्मा मंत्र है जाप तुम्हारा। जिसको जपे सकल…

Continue Readingब्रह्माचारिणी देवी आरती | Brahmacharini Devi Aarti

खाटूश्याम जी आरती | Khatushyam Ji Aarti

Read more about the article खाटूश्याम जी आरती | Khatushyam Ji Aarti
खाटूश्याम जी आरती | Khatushyam Ji Aarti

खाटूश्याम जी आरती | Khatushyam Ji Aarti ॐ जय श्री श्याम हरे, प्रभु जय श्री श्याम हरे।निज भक्तन के तुमने, पूरन काम करे।हरि ॐ जय श्री श्याम हरे ॥गल पुष्प…

Continue Readingखाटूश्याम जी आरती | Khatushyam Ji Aarti

राधारानी आरती | Radharani Aarti

आरती श्री वृषभानुसुता की, मंजुल मूर्ति मोहन ममता की ॥ त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि, विमल विवेकविराग विकासिनि ।पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि, सुन्दरतम छवि सुन्दरता की ॥आरती श्री वृषभानुसुता की,…

Continue Readingराधारानी आरती | Radharani Aarti

शनिदेव आरती | Shanidev Aarti

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतारी॥जय जय श्री शनि देव…. श्याम अंग वक्र-दृष्टि चतुर्भुजा धारी।नी लाम्बर धार नाथ गज की असवारी॥जय जय श्री शनि देव…. क्रीट…

Continue Readingशनिदेव आरती | Shanidev Aarti

सूर्यदेव आरती | Suryadev Aarti

ॐ जय सूर्य भगवान। जय हो तिनकर भगवान ॥जगत के नेत्र स्वरूपा। तुम हो त्रिगुणा स्वरूपा।धरता सबही सब ध्यान ॥ॐ जय सूर्य भगवान … सारथी अरुण है प्रभु तुम। श्वेता…

Continue Readingसूर्यदेव आरती | Suryadev Aarti

श्री सत्यनारायण जी आरती | Shree Satyanarayan Ji Aarti

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा ।सत्यनारायण स्वामी, जन-पातक-हरणा ॥जय लक्ष्मी…रत्न जड़ित सिंहासन, अद्भुत छवि राजे ।नारद करत नीराजन, घंटा वन बाजे ॥जय लक्ष्मी…प्रकट भए कलिकारन, द्विज को दरस…

Continue Readingश्री सत्यनारायण जी आरती | Shree Satyanarayan Ji Aarti

श्रीनाथ जी आरती | Shreenath Ji Aarti

आरती श्रीनाथ जी की,मंगला करि,प्रभु मंगला करी,शंख वाज्ञा श्रीनाथ जी जाग्या,कटोरी धरी प्रभु जी कटोरी धरी,आरती श्रीनाथ जी की,मंगला करि,प्रभु मंगला करी। धनन धनन घंट बाजे, झालरों घणी,धनन धनन घंट…

Continue Readingश्रीनाथ जी आरती | Shreenath Ji Aarti

End of content

No more pages to load