विश्वकर्मा चालीसा | Vishvakarma Chalisa

विश्वकर्मा चालीसा | Vishvakarma Chalisa ॥ दोहा ॥ विनय करौं कर जोड़कर मन वचन कर्म संभारी।मोर मनोरथ पूर्ण कर विश्वकर्मा दुष्टारी॥ ॥ चोपाई ॥ विश्वकर्मा तव नाम अनूपा, पावन सुखद…

Continue Readingविश्वकर्मा चालीसा | Vishvakarma Chalisa

विष्णु चालीसा | Vishnu Chalisa

विष्णु चालीसा | Vishnu Chalisa ॥ दोहा ॥ विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय।कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय। ॥ चौपाई ॥ नमो विष्णु भगवान खरारी। कष्ट नशावन अखिल…

Continue Readingविष्णु चालीसा | Vishnu Chalisa

शीतला माता चालीसा | Shitla Mata Chalisa

शीतला माता चालीसा | Shitla Mata Chalisa ॥ दोहा ॥ जय जय माता शीतला तुमही धरे जो ध्यान।होय बिमल शीतल हृदय विकसे बुद्धी बल ज्ञान॥घट घट वासी शीतला शीतल प्रभा…

Continue Readingशीतला माता चालीसा | Shitla Mata Chalisa

सरस्वती माता चालीसा | Saraswati Mata Chalisa

सरस्वती माता चालीसा | Saraswati Mata Chalisa ॥ दोहा ॥ जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि ।बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि ॥पूर्ण जगत में व्याप्त तव, महिमा…

Continue Readingसरस्वती माता चालीसा | Saraswati Mata Chalisa

सन्तोषी माता चालीसा | Santoshi Mata Chalisa

सन्तोषी माता चालीसा | Santoshi Mata Chalisa ॥ दोहा ॥ बन्दौं सन्तोषी चरण रिद्धि-सिद्धि दातार।ध्यान धरत ही होत नर दुःख सागर से पार॥भक्तन को सन्तोष दे सन्तोषी तव नाम।कृपा करहु…

Continue Readingसन्तोषी माता चालीसा | Santoshi Mata Chalisa

बालकनाथ चालीसा | Balaknath Chalisa

बालकनाथ चालीसा | Balaknath Chalisa ॥ दोहा ॥ गुरु चरणों में सीस धर करुं प्रथम प्रणाम, बखशो मुझको बाहुबल, सेव करूँ निष्काम।रोम रोम में रम रहा, रूप तुम्हारा नाथ ,…

Continue Readingबालकनाथ चालीसा | Balaknath Chalisa

बटुक भैरव चालीसा | Batuk Bhairav Chalisa

बटुक भैरव चालीसा | Batuk Bhairav Chalisa ॥ दोहा ॥ श्री गणपति, गुरु गौरि पद, प्रेम सहित धरि माथ ।चालीसा वन्दन करों, श्री शिव भैरवनाथ ॥श्री भैरव संकट हरण, मंगल…

Continue Readingबटुक भैरव चालीसा | Batuk Bhairav Chalisa

सीता माता चालीसा | Sita Mata Chalisa

॥ दोहा ॥ बन्दौ चरण सरोज निज जनक लली सुख धाम, राम प्रिय किरपा करें सुमिरौं आठों धाम॥कीरति गाथा जो पढ़ें सुधरैं सगरे काम, मन मन्दिर बासा करें दुःख भंजन…

Continue Readingसीता माता चालीसा | Sita Mata Chalisa

लड्डूगोपाल चालीसा | Laddugopal Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री राधापद कमल रज, सिर धरि यमुना कूल।वरणो चालीसा सरस, सकल सुमंगल मूल ॥ ॥ चौपाई ॥ जय जय पूरण ब्रह्म बिहारी, दुष्ट दलन लीला अवतारी।जो कोई…

Continue Readingलड्डूगोपाल चालीसा | Laddugopal Chalisa

श्री राम चालीसा | Shree Ram Chalisa

॥ दोहा ॥ आदौ राम तपोवनादि गमनं हत्वाह् मृगा काञ्चनंवैदेही हरणं जटायु मरणं सुग्रीव संभाषणंबाली निर्दलं समुद्र तरणं लङ्कापुरी दाहनम्पश्चद्रावनं कुम्भकर्णं हननं एतद्धि रामायणं ॥ चौपाई ॥ श्री रघुबीर भक्त…

Continue Readingश्री राम चालीसा | Shree Ram Chalisa

राधा चालीसा | Radha Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री राधे वुषभानुजा, भक्तनि प्राणाधार ।वृन्दाविपिन विहारिणी, प्रानावौ बारम्बार ॥जैसो तैसो रावरौ, कृष्ण प्रिय सुखधाम ।चरण शरण निज दीजिये, सुन्दर सुखद ललाम ॥ ॥ चौपाई ॥ जय…

Continue Readingराधा चालीसा | Radha Chalisa

शनिदेव चालीसा | Shanidev Chalisa

॥ दोहा ॥ जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज।करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन…

Continue Readingशनिदेव चालीसा | Shanidev Chalisa

श्री लक्ष्मी चालीसा | Shree Lakshmi Chalisa

॥ दोहा ॥मातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।मनोकामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस॥सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार॥ ॥ चौपाई ॥ तुम समान…

Continue Readingश्री लक्ष्मी चालीसा | Shree Lakshmi Chalisa

श्याम बाबा चालीसा | Shyam Baba Chalisa

Read more about the article श्याम बाबा चालीसा | Shyam Baba Chalisa
खाटूश्याम जी आरती | Khatushyam Ji Aarti

॥ दोहा ॥ श्री गुरु चरण ध्यान धर, सुमिरि सच्चिदानन्द।श्याम चालीसा भजत हूँ, रच चैपाई छन्द।। ॥ चौपाई ॥ श्याम श्याम भजि बारम्बारा,सहज ही हो भवसागर पारा।इन सम देव न…

Continue Readingश्याम बाबा चालीसा | Shyam Baba Chalisa

पार्वती माता चालीसा | Parwati Mata Chalisa

॥ दोहा ॥ जय गिरी तनये दक्षजे शम्भू प्रिये गुणखानि।गणपति जननी पार्वती अम्बे! शक्ति! भवानि॥ ॥ चौपाई ॥ ब्रह्मा भेद न तुम्हरो पावे, पंच बदन नित तुमको ध्यावे।षड्मुख कहि न…

Continue Readingपार्वती माता चालीसा | Parwati Mata Chalisa

शिव चालीसा | Shiv Chalisa

॥ दोहा ॥जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान ॥ ॥ चौपाई ॥ जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला ॥भाल चन्द्रमा सोहत…

Continue Readingशिव चालीसा | Shiv Chalisa

परशुराम चालीसा | Parshuram Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री गुरु चरण सरोज छवि, निज मन मन्दिर धारि।सुमरि गजानन शारदा, गहि आशिष त्रिपुरारि॥बुद्धिहीन जन जानिये, अवगुणों का भण्डार।बरणों परशुराम सुयश, निज मति के अनुसार॥ ॥ चौपाई…

Continue Readingपरशुराम चालीसा | Parshuram Chalisa

नागणेची माता चालीसा | Nagnechi Mata Chalisa

श्री गणेश प्रथम मनाऊ ।रिद्धि सिद्धि भरपूर पाऊ ॥नमो नमो श्री नागणेच्या माता। नमो नमो शिव शक्ति माता ॥हर रूप में दर्शन दिया। अनेको भक्त ऊवार दिया ॥ज्वाला में तुम…

Continue Readingनागणेची माता चालीसा | Nagnechi Mata Chalisa

नवग्रह चालीसा | Navgrah Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री गणपति ग़ुरुपद कमल,प्रेम सहित सिरनाय ,नवग्रह चालीसा कहत,शारद होत सहाय जय,जय रवि शशि सोम बुध,जय गुरु भृगु शनि राज,जयति राहू अरु केतु ग्रह,करहु अनुग्रह आज !!…

Continue Readingनवग्रह चालीसा | Navgrah Chalisa

नर्मदा माता जी चालीसा | Narmda Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ देवि पूजित, नर्मदा,महिमा बड़ी अपार ।चालीसा वर्णन करत,कवि अरु भक्त उदार॥ इनकी सेवा से सदा,मिटते पाप महान ।तट पर कर जप दान नर,पाते हैं नित ज्ञान ॥…

Continue Readingनर्मदा माता जी चालीसा | Narmda Mata Ji Chalisa

End of content

No more pages to load