मेरे गणनायक तुम आ जाओ | Mere Gannayak Tum Aa Jao

मेरे गणनायक तुम आ जाओ,मैं तो कबसे बाट निहार रही,मेरे गणनायक तुम आ जाओ ॥ मेरी सखियाँ मुझसे पूछे है,कब आएंगे गजमुख बोलो,अब अष्ट विनायक आ जाओ,मैं तो कबसे बाट…

Continue Readingमेरे गणनायक तुम आ जाओ | Mere Gannayak Tum Aa Jao

ये चमक ये दमक | Ye Chamak Ye Damak

ये चमक ये दमक,फूलवन मा महक,सब कुछ सरकार तुम्हई से है,इठला के पवन,चूमे सैया के चरण,बगियन मा बहार तुम्हई से है ॥ मेरे सुख दुःख की रखते हो खबर,मेरे सर…

Continue Readingये चमक ये दमक | Ye Chamak Ye Damak

शनिदेव स्तुति | Shanidev Stuti

नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठ निभाय च।नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम:॥ नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च।नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते॥ नम: पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ वै नम:।नमो दीर्घाय शुष्काय कालदंष्ट्र नमोऽस्तु ते॥ नमस्ते…

Continue Readingशनिदेव स्तुति | Shanidev Stuti

श्री वृषभानुसुता की आरती | Shree Vrishbhanusuta Ki Aarti

आरती श्री वृषभानुसुता की, मंजु मूर्ति मोहन ममता की॥त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि,विमल विवेक विराग विकासिनि।पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि, सुन्दरतम छवि सुन्दरता की॥आरती श्री वृषभानुसुता की.. मुनि मन मोहन मोहन…

Continue Readingश्री वृषभानुसुता की आरती | Shree Vrishbhanusuta Ki Aarti

रामलला की आरती । Ramlala Ki Aarti

आरती कीजे श्रीरामलला की ।पूण निपुण धनुवेद कला की ॥ धनुष वान कर सोहत नीके ।शोभा कोटि मदन मद फीके ॥ सुभग सिंहासन आप बिराजैं ।वाम भाग वैदेही राजैं ॥…

Continue Readingरामलला की आरती । Ramlala Ki Aarti

श्री रामचन्द्र आरती । Shree Ramchandra Aarti

आरती कीजै रामचन्द्र जी की।हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥ पहली आरती पुष्पन की माला।काली नाग नाथ लाये गोपाला॥ दूसरी आरती देवकी नन्दन।भक्त उबारन कंस निकन्दन॥ तीसरी आरती त्रिभुवन मोहे।रत्‍‌न सिंहासन…

Continue Readingश्री रामचन्द्र आरती । Shree Ramchandra Aarti

श्री राम आरती । Shree Ram Aarti

जगमग-जगमग जोत जली है।राम आरती होने लगी है॥ भक्ति का दीपक प्रेम की बाती।आरती संत करें दिन रात॥ आनंद की सरिता उभरी है।जगमग-जगमग जोत जली है॥ कनक सिंहासन सिया समेता।बैठहिं…

Continue Readingश्री राम आरती । Shree Ram Aarti

श्री हनुमान स्तुति | Shree Hanuman Stuti

प्रनवउ पवनकुमार खल बल पावक ग्यानधन ।जासु ह्रदय आगार बसही राम शर चाप धर ॥ अतुलित बलधामम हेम शैलाभदेहम,दनुज वन कृशानुम ज्ञानिनामग्रगण्याम ।सकल गुणनिधामम वानराणामधीशं,रघुपति प्रियभक्तं वातजातम नमामि ॥ गोष्पदीकृतवारीशम…

Continue Readingश्री हनुमान स्तुति | Shree Hanuman Stuti

पालक राम-बालक कृष्ण । Palak Ram – Balak Krishan

पालक राम-बालक कृष्ण । Palak Ram - Balak Krishan तुलसीजी और सूरदासजी एक बार इकट्ठे हुए। ब्रजभूमि में दोनों सत्संग कर रहे थे। कई लोग एकत्रित हुए थे। एक 'सूरसागर'…

Continue Readingपालक राम-बालक कृष्ण । Palak Ram – Balak Krishan

सुन्दरकाण्ड | Sunderkand

सुन्दरकाण्ड | Sunderkand श्रीजानकीवल्लभो विजयते॥ श्रीरामचरितमानस ॥पञ्चम सोपान ॥ सुन्दरकाण्ड ॥ ॥ श्लोक ॥ शान्तं शाश्वतमप्रमेयमनघं निर्वाणशान्तिप्रदंब्रह्माशम्भुफणीन्द्रसेव्यमनिशं वेदान्तवेद्यं विभुम्।रामाख्यं जगदीश्वरं सुरगुरुं मायामनुष्यं हरिंवन्देऽहं करुणाकरं रघुवरं भूपालचूड़ामणिम् ॥1॥ नान्या स्पृहा रघुपते…

Continue Readingसुन्दरकाण्ड | Sunderkand

हनुमानाष्टक | Hanumanashtak

हनुमानाष्टक | Hanumanashtak श्री हनुमंत लाल की पूजा आराधना में संकट मोचन हनुमान अष्टक का नियमित पाठ करने से भक्तों पर आये गंभीर संकट का भी निवारण हो जाता है।…

Continue Readingहनुमानाष्टक | Hanumanashtak

श्री विष्णु सहस्त्रनाम | Shree Vishnu Sahstranama

श्री विष्णु सहस्त्रनाम | Shree Vishnu Sahstranama शुक्लाम्बरधरं विष्णुं शशिवर्णं चतुर्भुजम् ।प्रसन्नवदनं ध्यायेत् सर्वविघ्नोपशान्तये ॥1॥ यस्य द्विरदवक्त्राद्याः पारिषद्याः परः शतम् ‌।विघ्नं निघ्नन्ति सततं विष्वक्सेनं तमाश्रये ॥2॥ व्यासं वसिष्ठनप्तारं शक्तेः पौत्रमकल्मषम्…

Continue Readingश्री विष्णु सहस्त्रनाम | Shree Vishnu Sahstranama

श्री दुर्गा सहस्रनाम | Shri Durga Sahasranama

श्री दुर्गा सहस्रनाम | Shri Durga Sahasranama ॐ शिवायै नमः ।ॐ उमायै नमः ।ॐ रमायै नमः ।ॐ शक्त्यै नमः ।ॐ अनन्तायै नमः ।ॐ निष्कलायै नमः ।ॐ अमलायै नमः ।ॐ शान्तायै…

Continue Readingश्री दुर्गा सहस्रनाम | Shri Durga Sahasranama

श्री सरस्वती स्तोत्रं | Shree Saraswati Strotam

श्री सरस्वती स्तोत्रं | Shree Saraswati Strotam या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृताया वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना ।या ब्रह्माच्युतशङ्करप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दितासा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥1॥ आशासु राशीभवदङ्गवल्लीभासैव दासीकृतदुग्धसिन्धुम् ।मन्दस्मितैर्निन्दितशारदेन्दुंवन्देऽरविन्दासनसुन्दरि त्वाम् ॥2॥…

Continue Readingश्री सरस्वती स्तोत्रं | Shree Saraswati Strotam

श्री शालिग्राम स्तोत्रं | Shree Shaligram Strotam

श्री शालिग्राम स्तोत्रं | Shree Shaligram Strotam श्री गणेशाय नमः ।अस्य श्रीशालिग्रामस्तोत्रमन्त्रस्य श्रीभगवान् ऋषिः।,नारायणो देवता।, अनुष्टुप् छन्दः।,श्रीशालिग्रामस्तोत्रमन्त्रजपे विनियोगः ॥ ॥ युधिष्ठिर उवाच ॥ श्रीदेवदेव देवेश देवतार्चनमुत्तमम् ।तत्सर्वं श्रोतुमिच्छामि ब्रूहि मे…

Continue Readingश्री शालिग्राम स्तोत्रं | Shree Shaligram Strotam

श्री राम रक्षा स्तोत्रं | Shree Ram Raksha Strotam

श्री राम रक्षा स्तोत्रं | Shree Ram Raksha Strotam श्रीगणेशायनम: ।अस्य श्रीरामरक्षास्तोत्रमन्त्रस्य ।बुधकौशिक ऋषि: ।श्रीसीतारामचंद्रोदेवता ।अनुष्टुप्‌ छन्द: । सीता शक्ति: ।श्रीमद्‌हनुमान्‌ कीलकम्‌ ।श्रीसीतारामचंद्रप्रीत्यर्थे जपे विनियोग: ॥ ॥ अथ ध्यानम्‌ ॥…

Continue Readingश्री राम रक्षा स्तोत्रं | Shree Ram Raksha Strotam

श्री तुलसी स्तोत्रं | Shree Tulsi Strotam

श्री तुलसी स्तोत्रं | Shree Tulsi Strotam जगद्धात्रि नमस्तुभ्यं विष्णोश्च प्रियवल्लभे ।यतो ब्रह्मादयो देवाः सृष्टिस्थित्यन्तकारिणः ॥1॥ नमस्तुलसि कल्याणि नमो विष्णुप्रिये शुभे ।नमो मोक्षप्रदे देवि नमः सम्पत्प्रदायिके ॥2॥ तुलसी पातु मां…

Continue Readingश्री तुलसी स्तोत्रं | Shree Tulsi Strotam

दुर्गा क्षमा-प्रार्थना मंत्र | Durga kshma-prathana Mantra (Hindi)

दुर्गा क्षमा-प्रार्थना मंत्र | Durga kshma-prathana Mantra (Hindi) हे परमेश्वरी मेरे द्वारा रात-दिन बहुत से अपराध होते रहते है। मुझे अपना दास समझकर मेरे उन अपराधों को आप कृपा पूर्वक…

Continue Readingदुर्गा क्षमा-प्रार्थना मंत्र | Durga kshma-prathana Mantra (Hindi)

दुर्गा क्षमा-प्रार्थना मंत्र | Durga kshma-prathana Mantra

दुर्गा क्षमा-प्रार्थना मंत्र | Durga kshma-prathana Mantra अपराधसहस्त्राणि क्रियन्तेऽहर्निशं मया।दासोऽयमिति मां मत्वा क्षमस्व परमेश्वरि ॥1॥ आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्।पूजां चैव न जानामि क्षम्यतां परमेश्वरि ॥2॥ मन्त्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं…

Continue Readingदुर्गा क्षमा-प्रार्थना मंत्र | Durga kshma-prathana Mantra

श्री जानकी स्तोत्रं | Shree Janaki Strotam

श्री जानकी स्तोत्रं | Shree Janaki Strotam जानकि त्वां नमस्यामि सर्वपापप्रणाशिनीम्जानकि त्वां नमस्यामि सर्वपापप्रणाशिनीम् ॥1॥ दारिद्र्यरणसंहर्त्रीं भक्तानाभिष्टदायिनीम् ।विदेहराजतनयां राघवानन्दकारिणीम् ॥2॥ भूमेर्दुहितरं विद्यां नमामि प्रकृतिं शिवाम् ।पौलस्त्यैश्वर्यसंहत्रीं भक्ताभीष्टां सरस्वतीम् ॥3॥ पतिव्रताधुरीणां…

Continue Readingश्री जानकी स्तोत्रं | Shree Janaki Strotam

End of content

No more pages to load