दुर्गा माता जी चालीसा | Durga Mata Ji Chalisa

नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूं लोक फैली उजियारी॥ शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥रूप मातु को अधिक सुहावे।दरश करत…

Continue Readingदुर्गा माता जी चालीसा | Durga Mata Ji Chalisa

तुलसी माता जी चालीसा | Tulsi Mata Ji Chalisa

॥दोहा॥ जय जय तुलसी भगवती सत्यवती सुखदानी।नमो नमो हरि प्रेयसी श्री वृन्दा गुन खानी॥श्री हरि शीश बिरजिनी, देहु अमर वर अम्ब।जनहित हे वृन्दावनी अब न करहु विलम्ब॥ ॥चौपाई॥ धन्य धन्य…

Continue Readingतुलसी माता जी चालीसा | Tulsi Mata Ji Chalisa

जीन माता जी चालीसा | Jeen Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री गुरुपद सुमिरण करूँ, गौरीनंदन ध्याय ।वरणऊ माता जीण यश , चरणों शीश नवाय ॥झांकी की अद्भुत छवि , शोभा कही न जाय ।जो नित सुमरे माय…

Continue Readingजीन माता जी चालीसा | Jeen Mata Ji Chalisa

हनुमान जी चालीसा | Hanuman Ji Chalisa

।। दोहा ।। श्रीगुरु चरन सरोज रज निजमनु मुकुरु सुधारि।बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि।।बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।। ।। चौपाई…

Continue Readingहनुमान जी चालीसा | Hanuman Ji Chalisa

गौरी माता जी चालीसा | Gauri Mata Ji Chalisa

॥ चौपाई ॥ मन मंदिर मेरे आन बसो, आरम्भ करूं गुणगान,गौरी माँ मातेश्वरी, दो चरणों का ध्यान।पूजन विधी न जानती, पर श्रद्धा है आपर,प्रणाम मेरा स्विकारिये, हे माँ प्राण आधार।नमो…

Continue Readingगौरी माता जी चालीसा | Gauri Mata Ji Chalisa

गायत्री माता जी चालीसा | Gayatri Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ हीं श्रीं, क्लीं, मेधा, प्रभा, जीवन ज्योति प्रचण्ड ।शांति, क्रांति, जागृति, प्रगति, रचना शक्ति अखण्ड ॥जगत जननि, मंगल करनि, गायत्री सुखधाम ।प्रणवों सावित्री, स्वधा, स्वाहा पूरन काम…

Continue Readingगायत्री माता जी चालीसा | Gayatri Mata Ji Chalisa

गणेश जी चालीसा | Ganesh Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ जय गणपति सदगुणसदन, कविवर बदन कृपाल।विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥ ॥ चौपाई ॥ जय जय जय गणपति गणराजू। मंगल भरण करण शुभः काजू ॥जै गजबदन…

Continue Readingगणेश जी चालीसा | Ganesh Ji Chalisa

कृष्ण जी चालीसा | Krishan Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ बंशी शोभित कर मधुर, नील जलद तन श्याम।अरुणअधरजनु बिम्बफल, नयनकमलअभिराम॥पूर्ण इन्द्र, अरविन्द मुख, पीताम्बर शुभ साज।जय मनमोहन मदन छवि, कृष्णचन्द्र महाराज॥ ॥ चोपाई ॥ जय यदुनंदन जय…

Continue Readingकृष्ण जी चालीसा | Krishan Ji Chalisa

काली माता जी चालीसा | Kali Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ जयकाली कलिमलहरण, महिमा अगम अपार ।महिष मर्दिनी कालिका , देहु अभय अपार ॥ ॥ चौपाई ॥ रि मद मान मिटावन हारी । मुण्डमाल गल सोहत प्यारी ॥अष्टभुजी…

Continue Readingकाली माता जी चालीसा | Kali Mata Ji Chalisa

कामाख्या माता जी चालीसा | Kamakhya Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ सुमिरन कामाख्या करुँ, सकल सिद्धि की खानि ।होइ प्रसन्न सत करहु माँ, जो मैं कहौं बखानि ॥ ॥ चौपाई ॥ जै जै कामाख्या महारानी । दात्री सब…

Continue Readingकामाख्या माता जी चालीसा | Kamakhya Mata Ji Chalisa

करणी माता जी चालीसा | Karni Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ जय गणेश जय गज बदन, करण सुमंगल मूल।करहू कृपा निज दास पर, रहहू सदा अनूकूल॥जय जननी जगदीश्वरी, कह कर बारम्बार।जगदम्बा करणी सुयश, वरणउ मति अनुसार ॥ ॥…

Continue Readingकरणी माता जी चालीसा | Karni Mata Ji Chalisa

अंजनी माता जी चालीसा | Anjani Mata Ji Chalisa

।। दोहा ।। चैत्र सुदी वैसाख सुदी, जेष्ठ सुदी को जान।आसाढ़ श्रावण सुदी, चौदस को पहचान।।भादुड़ा आसौज की, और कार्तिक की सुदी।सुदी मार्गशीर्ष और पौष की देती सबको बुद्धि ।।फाल्गुन…

Continue Readingअंजनी माता जी चालीसा | Anjani Mata Ji Chalisa

वैष्णो देवी जी चालीसा | Vaishno Devi Ji Chalisa

॥ दोहा ॥गरुड़ वाहिनी वैष्णवी त्रिकूटा पर्वत धाम।काली, लक्ष्मी, सरस्वती शक्ति तुम्हें प्रणाम॥ ॥ चौपाई ॥नमो: नमोः वैष्णो वरदानी, कलि काल में शुभ कल्याणी।मणि पर्वत पर ज्योति तुम्हारी, पिंडी रूप…

Continue Readingवैष्णो देवी जी चालीसा | Vaishno Devi Ji Chalisa

भगवद गीता जी चालीसा | Bhagwat Geeta Ji Chalisa

प्रथमहिं गुरुको शीश नवाऊँ । हरिचरणों में ध्यान लगाऊँ ॥गीत सुनाऊँ अद्भुत यार । धारण से हो बेड़ा पार ॥ अर्जुन कहै सुनो भगवाना । अपने रूप बताये नाना ॥उनका…

Continue Readingभगवद गीता जी चालीसा | Bhagwat Geeta Ji Chalisa

बाबा खेतरपाल जी चालीसा | Baba Khetarpal Ji Chalisa

||दोहा|| खेतरपाल संकट हरो, मंगल करो सब काम।शरण तुम्हारी आन पड़े, दर्श दिखाओ आन ।।चालीसा तेरी गाउं मै, दयो ज्ञान भरपूर ।क्षमा करो अपराध सब, संकट करो थे दूर।। ||चौपाई||खेतरपाल…

Continue Readingबाबा खेतरपाल जी चालीसा | Baba Khetarpal Ji Chalisa

चामुण्डा माता जी चालीसा | Chamunda Mata Ji Chalisa

||दोहा|| नीलवरण मा कालिका रहती सदा प्रचंड ।दस हाथो मई ससत्रा धार देती दुस्त को दांड्ड़ ।।मधु केटभ संहार कर करी धर्म की जीत ।मेरी भी बढ़ा हरो हो जो…

Continue Readingचामुण्डा माता जी चालीसा | Chamunda Mata Ji Chalisa

End of content

No more pages to load