शालिग्राम आरती | Shaligram Aarti

शालिग्राम सुनो विनती मेरी ।यह वरदान दयाकर पाऊं ॥ प्रात: समय उठी मंजन करके ।प्रेम सहित स्नान कराऊँ ॥ चन्दन धुप दीप तुलसीदल ।वरन -वरण के पुष्प चढ़ाऊँ ॥ तुम्हरे…

Continue Readingशालिग्राम आरती | Shaligram Aarti

तुलसी माता जी चालीसा | Tulsi Mata Ji Chalisa

॥दोहा॥ जय जय तुलसी भगवती सत्यवती सुखदानी।नमो नमो हरि प्रेयसी श्री वृन्दा गुन खानी॥श्री हरि शीश बिरजिनी, देहु अमर वर अम्ब।जनहित हे वृन्दावनी अब न करहु विलम्ब॥ ॥चौपाई॥ धन्य धन्य…

Continue Readingतुलसी माता जी चालीसा | Tulsi Mata Ji Chalisa

End of content

No more pages to load