माँ कात्यायनी आरती | Ma Katyayani Aarti

जय जय अम्बे जय कात्यानी।जय जगमाता जग की महारानी।। बैजनाथ स्थान तुम्हारा।वहा वरदाती नाम पुकारा।। कई नाम है कई धाम है।यह स्थान भी तो सुखधाम है।। हर मंदिर में ज्योत…

Continue Readingमाँ कात्यायनी आरती | Ma Katyayani Aarti

पार्वती माता चालीसा | Parwati Mata Chalisa

॥ दोहा ॥ जय गिरी तनये दक्षजे शम्भू प्रिये गुणखानि।गणपति जननी पार्वती अम्बे! शक्ति! भवानि॥ ॥ चौपाई ॥ ब्रह्मा भेद न तुम्हरो पावे, पंच बदन नित तुमको ध्यावे।षड्मुख कहि न…

Continue Readingपार्वती माता चालीसा | Parwati Mata Chalisa

जीन माता जी चालीसा | Jeen Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री गुरुपद सुमिरण करूँ, गौरीनंदन ध्याय ।वरणऊ माता जीण यश , चरणों शीश नवाय ॥झांकी की अद्भुत छवि , शोभा कही न जाय ।जो नित सुमरे माय…

Continue Readingजीन माता जी चालीसा | Jeen Mata Ji Chalisa

करणी माता जी चालीसा | Karni Mata Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ जय गणेश जय गज बदन, करण सुमंगल मूल।करहू कृपा निज दास पर, रहहू सदा अनूकूल॥जय जननी जगदीश्वरी, कह कर बारम्बार।जगदम्बा करणी सुयश, वरणउ मति अनुसार ॥ ॥…

Continue Readingकरणी माता जी चालीसा | Karni Mata Ji Chalisa

End of content

No more pages to load