लड्डूगोपाल आरती | Laddugopal Aarti

लड्डूगोपाल आरती | Laddugopal Aarti आरती बाल कृष्ण की कीजै ।अपना जन्म सफल कर लीजै ॥आरती बाल कृष्ण की कीजै… श्री यशोदा का परम दुलारा ।बाबा के अँखियन का तारा…

Continue Readingलड्डूगोपाल आरती | Laddugopal Aarti

राधाकृष्ण आरती | Radhakrishna Aarti

ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्णश्री राधा कृष्णाय नमः.. घूम घुमारो घामर सोहे जय श्री राधापट पीताम्बर मुनि मन मोहे जय श्री कृष्णजुगल प्रेम रस झम झम झमकैश्री राधा…

Continue Readingराधाकृष्ण आरती | Radhakrishna Aarti

लड्डूगोपाल चालीसा | Laddugopal Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री राधापद कमल रज, सिर धरि यमुना कूल।वरणो चालीसा सरस, सकल सुमंगल मूल ॥ ॥ चौपाई ॥ जय जय पूरण ब्रह्म बिहारी, दुष्ट दलन लीला अवतारी।जो कोई…

Continue Readingलड्डूगोपाल चालीसा | Laddugopal Chalisa

राधा चालीसा | Radha Chalisa

॥ दोहा ॥ श्री राधे वुषभानुजा, भक्तनि प्राणाधार ।वृन्दाविपिन विहारिणी, प्रानावौ बारम्बार ॥जैसो तैसो रावरौ, कृष्ण प्रिय सुखधाम ।चरण शरण निज दीजिये, सुन्दर सुखद ललाम ॥ ॥ चौपाई ॥ जय…

Continue Readingराधा चालीसा | Radha Chalisa

श्री लक्ष्मी चालीसा | Shree Lakshmi Chalisa

॥ दोहा ॥मातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।मनोकामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस॥सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार॥ ॥ चौपाई ॥ तुम समान…

Continue Readingश्री लक्ष्मी चालीसा | Shree Lakshmi Chalisa

तुलसी माता जी चालीसा | Tulsi Mata Ji Chalisa

॥दोहा॥ जय जय तुलसी भगवती सत्यवती सुखदानी।नमो नमो हरि प्रेयसी श्री वृन्दा गुन खानी॥श्री हरि शीश बिरजिनी, देहु अमर वर अम्ब।जनहित हे वृन्दावनी अब न करहु विलम्ब॥ ॥चौपाई॥ धन्य धन्य…

Continue Readingतुलसी माता जी चालीसा | Tulsi Mata Ji Chalisa

कृष्ण जी चालीसा | Krishan Ji Chalisa

॥ दोहा ॥ बंशी शोभित कर मधुर, नील जलद तन श्याम।अरुणअधरजनु बिम्बफल, नयनकमलअभिराम॥पूर्ण इन्द्र, अरविन्द मुख, पीताम्बर शुभ साज।जय मनमोहन मदन छवि, कृष्णचन्द्र महाराज॥ ॥ चोपाई ॥ जय यदुनंदन जय…

Continue Readingकृष्ण जी चालीसा | Krishan Ji Chalisa

श्री बद्रीनाथ जी आरती | Shree Badrinath Ji Aarti

पवन मंद सुगंध शीतल, हेम मन्दिर शोभितम्।निकट गंगा बहत निर्मल,श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम्॥शेष सुमिरन, करत निशदिन,धरत ध्यान महेश्वरम्।वेद ब्रह्मा करत स्तुति श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम्॥इन्द्र चन्द्र कुबेर दिनकर, धूप दीप निवेदितम्।सिद्ध मुनिजन…

Continue Readingश्री बद्रीनाथ जी आरती | Shree Badrinath Ji Aarti

End of content

No more pages to load